ये सपना नहीं हकीकत है भाई !


Comments

  1. कुछ दिन को ही सही-दिन बहुरे!!!

    ReplyDelete
  2. हा हा, मजेदाऱ। चार दिन की चाँदनी फिर अन्धेरी रात।

    ReplyDelete

Post a Comment