राजकुमार केसवानीजी से 'आपस की बात'...


Comments

  1. भई वाह...
    मनभावन...अतिसुहावन...

    ReplyDelete
  2. वाणी नदारद केस तो कम हैं

    कलम के रुतबे में खूब दम है

    ReplyDelete
  3. केसवानी जी का तो मैं बहुत ही बड़ा पंखा हू..

    ReplyDelete
  4. फिर तो सर्दियों में गर्म

    और

    गर्मियों में ठंडी हवा

    देते होगे।

    ऐसे पंखें तो मुझे भी चाहिएं।

    ReplyDelete

Post a Comment