Wednesday, March 10, 2010

केरीकेचर- शिवकुमार जी के साथी भाई ज्ञानदत्त पाण्डेय जी की 'हरी झंडी'...


10 comments:

  1. ज्ञान एक्सप्रेस...की छूक छूक...
    छूक छूक...

    बढ़िया...

    ReplyDelete
  2. सुपर फास्ट सेवा के लिये भी वही झण्डी.......

    ReplyDelete
  3. वाह, कारटून बनाया आपने!
    वर्ना हम भी आदमी थे काम के!

    बहुत बढ़िया।

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति! राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    ReplyDelete
  5. वाह! ज्ञान जी को गोल कर दिया
    वरना ब्लागीर वे भी चौकोर थे।

    ReplyDelete
  6. फोटो देखकर साफ पता चल रहा है कि ज्ञान दद्दा झण्डी दिखाते वक्त भी ब्लॉगिंग के ही ख्यालों में खोये हैं। :-)

    ReplyDelete
  7. अरे भैये ! ज्यादातर सीनियर ब्लोग्गेर्स की गाडी को तो यह लाल झंडी दिखाने से चूकते नहीं ....और आपने हरी झंडी पकड़ा दी???

    शायद ब्लॉग्गिंग की छुक छुक दौड़ती रहे !!!!

    ReplyDelete