Thursday, March 18, 2010

केरीकेचर- मूंछें हों तो भाई ललित शर्मा जी जैसी....

6 comments:

  1. हा हा हा
    बहुत बढिया

    ReplyDelete
  2. आजकल आपकी केरीकेचर की मुहिम जोरो पर है!
    लगता है सभी ब्लॉगर्स को कार्टून बनाकर ही दम लोगे!

    ReplyDelete
  3. बिलकुल जानदार मूंछे हैं शर्मा जी की, और यहां तो खूब अभिव्यक्त !
    आभार ।

    ReplyDelete