Tuesday, March 24, 2009

देखो, रतलाम से रवि जी पधारे हैं...


14 comments:

  1. ब्‍लॉगिंग के शिखर पुरुष

    रवि जी रतलामी जी

    ब्‍लॉगिंग के रवि यानी सूर्य हैं

    उनके आने से यहां पर छाने से

    सारे ब्‍लॉगर्स का प्रतिनिधित्‍व हो गया

    एक चेहरे में सारे ब्‍लॉगर्स का चेहरा

    नमूदार हो गया।


    इनका नंबर तोड़ कर आपने पहले
    मुझे अपने ब्‍लॉग पर चिपकाया
    इसलिए रवि जी का कमेंट मेरी कलम

    पर नहीं आ पाया।


    कलम और रचनाकार
    तथा नुक्‍कड़ और तुक्‍कड़ का

    गहन संबंध है

    रवि जी बतलाएंगे

    जब आप उनकी उपलब्धियों
    का भी एक केरीकेचर बनाएंगे।

    ReplyDelete
  2. वाह !! रवि जी को भी बुला लिया अपने यहां !

    ReplyDelete
  3. आप की कूँची से निकल रहे हैं, अब ब्लागर। कल पूछ सकते हैं, भाटिया जी, या फिर ताऊ जी, या फिर कोई और एक सवाल- "आज का कार्टून" पर किस के कैरीकेचर का नम्बर है?

    ReplyDelete
  4. रवि जी तो ब्लॉग के हिरो बन गए हैं।

    ReplyDelete
  5. आपका बहुत-बहुत धन्यवाद. आपने तो सचमुच मुझे हीरो बना दिया - जैसा कि आशीष ने ऊपर कहा है, :)

    ReplyDelete
  6. यह भी खूब रही...!

    ReplyDelete
  7. रवि जी के चिट्ठे पर उनका यह कार्टून देखकर ही तो मैं आया हूँ आपके ब्लॉग पर । बेहद खूबसूरत । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया जानकारी उम्दा ये तो बी केश हे

    ReplyDelete