Friday, April 10, 2009

अरसे बाद एक नया केरीकेचर:- आज 'ओमकार चौधरी' साहब !


11 comments:

  1. wow man, that's impressive!!!!

    ReplyDelete
  2. हरि की भूमि पर
    विराजे हैं
    इनकी कलम से
    बजते सदा बाजे हैं
    मन को भाते
    इनके विचार निराले हैं।

    ReplyDelete
  3. from sanjay srivastava
    perfect

    ReplyDelete
  4. टाई वाले भैया बिल्‍कुल ओमकार जैसे हैं।

    ReplyDelete
  5. ओमकार जी गम्भीर प्रवृति के व्यक्ति है लेकिन सवेंदशील भी जब DLA में थे तब कुछ सम्र्पक था हलाकिं वह सिर्फ मित्रों के ब्लाग पर ही टिप्पणी करते हैं।

    ReplyDelete
  6. Cool, very cool to see Papa this way first time in life. I'm amused but still laughing! Cool Work by the designer.

    ReplyDelete